Delhi Burari case - wikifeed
Information NEWS

Delhi Burari case – दिल्ली के बुराड़ी गांव में दिल दहलाने वाला हादसा एक ही परिवार के 11 लोगों की मौत

Want create site? Find Free WordPress Themes and plugins.

Delhi Burari case

भारत में दिल्ली शहर के बुराड़ी गांव में दिल दहलाने वाला हादसा बड़े से लेकर बच्चे तक लगाई फांसी एक ही परिवार के 11 लोगों की मौत रिपोर्ट के मुताबिक जिन 6 लोगों का पोस्टमॉर्टम हुआ हैं उनकी मौत का कारण हैंगिंग है. और सबसे बड़ी बात यह है की चोट का कोई नामो निशान नहीं है.

सबसे बड़ा हादसा दिल्ली शहर के बुराड़ी गांव Delhi Burari case में दिल दहलाने वाला हादसा बड़े से लेकर बच्चे तक लगाई फांसी एक ही परिवार के 11 लोगों की मौत रिपोर्ट के मुताबिक जिन 6 लोगों का पोस्टमॉर्टम हुआ हैं उनकी मौत का कारण हैंगिंग है. और सबसे बड़ी बात यह है की चोट का कोई नामो निशान नहीं है. सभी 11 मृतकों की आंखों पर काली पटी बंधी हुई थी. अब पोस्टमॉर्टम के बाद उन सभी का अंतिम संस्कार एक साथ कश्मीरी गेट के पास निगमबोध घाट पर किया जायेगा, ऐसा इस लिए किया है क्योंकि इतने शव एक साथ राजस्थान के पैतृक गांव में ले जाना आसान बात नहीं है.

Delhi Burari case - wikifeed

पुलिस रिपोर्ट के अनुसार जहां 10 लोगों के शव लटके हुए मिले, उसके पास ही एक कमरे से 2 रजिस्टर बरामद हुए हैं, जिस तरह से मौत हुई है वही तरीका दोनों रजिस्टर में लिखा गया है जिसमें मुंह बांधने और हाथ बांधने का भी ज़िक्र है. पुलिस के मुताबिक, दोनों रजिस्टर में मौत की एक कहानी की तरह व्याखया लिखी थी। जिसमें किसी आध्यात्मिक गुरु का नाम नहीं है. लेकिन मौत की क्रियाओं को लेकर एक बड़ा हिस्सा है. पुलिस ये पता लगाने की कोशिश कर रही है कि रजिस्टर में लिखी हैंड राइटिंग परिवार में से किस की है. यह कैश क्राइम ब्रांच को सोपा गया है जिसमे वह पूरी तरह से जुटी हुई है.

Delhi Burari case - wikifeed

पुलिस ने बताया कि 10 सदस्यों की आंखें और मुंह कपड़ों से बंधे हुए थे और उनके शव झूल रहे थे जबकि 77 साल की एक महिला फर्श पर मृत पाई गईं और उसकी आंखों और मुंह पर पट्टी नहीं बंधी थी. बच्चों के हाथ-पांव बंधे हुए थे. मकान की तलाशी के दौरान पुलिस को हाथ से लिखे कुछ नोट मिले जिसके बारे में उनका कहना है कि परिवार किसी धार्मिक कर्मकांड का पालन करता होगा. संयुक्त पुलिस आयुक्त (अपराध) आलोक कुमार ने बताया, ‘हमें हाथ से लिखे नोट मिले हैं जिनमें विस्तार से बताया गया है कि हाथ और पांव किस तरह बांधे जाएं और लगभग उसी तरह से 10 लोगों के शव बरामद किए गए. काफी लंबे नोट हैं और हम उनका अध्ययन कर रहे हैं.’

पुलिस ने इस मामले में हत्या का केस दर्ज किया है लेकिन पुलिस को यह भी संदेह है कि यह आपसी सहमति से खुदकुशी करने का मामला भी हो सकता है. इस बीच , मृतकों के पड़ोसियों ने बताया कि वे काफी मददगार स्वभाव वाले थे. अमरीक सिंह नाम के एक पड़ोसी ने बताया कि परिवार द्वारा चलाई जाने वाली किराने की दुकान हर रोज सुबह छह बजे खुल जाती थी और तभी बंद होती थी जब गली में रहने वाले सारे लोग सोने चले जाते थे.

Delhi Burari case - wikifeed

रविवार सुबह सात बजे तक दुकान नहीं खुली तो सभी को हैरत हुई. अमरीक के पिता गुरचरण सिंह ने कहा, ‘दूध वाला दुकान के बाहर आया था. कुछ पड़ोसी वहां इकट्ठा हुए थे क्योंकि वैन का ड्राइवर बार – बार हॉर्न बजा रहा था. मैंने मेन गेट खोला और सीढ़ियों पर चढ़कर ऊपर गया तो मैंने जो कुछ देखा उससे स्तब्ध रह गया. ’’ देवेश नाम के एक अन्य पड़ोसी ने बताया , ‘‘ किसी छोटे – मोटे सामान का अनुरोध करने पर वे कभी – कभी सुबह 5:30 में भी दुकान खोल देते थे. पास में रहने वाला चाय वाला उनका पहला ग्राहक होता था क्योंकि वह दूध खरीदने आता था. ’’ स्थानीय लोगों ने भाटिया परिवार को गली में रहने वाला ‘‘ सबसे बड़ा परिवार ’’ बताया. एक पड़ोसी ने कहा , ‘‘ वे यहां 22 साल से ज्यादा समय से रह रहे थे. हमने उन्हें कभी झगड़ते या किसी पड़ोसी को नुकसान पहुंचाते नहीं देखा.

(Source content – ndtv)

Did you find apk for android? You can find new Free Android Games and apps.

Add Comment

Click here to post a comment