Hanuman Of Kind these 7 mysterious great men-wikifeed
Entertainment

श्री हनुमान की तरह ये 7 रहस्यमय महापुरष जिन्हे अजर अमर और चिरंजीवी होने का वरदान मिला था.

  वो रहस्यमय महापुरष जिन्हे अजर अमर और चिरंजीवी होने का वरदान तथा श्राप मिला हे

हिन्दू ग्रन्थ में शामिल इस श्लोक में शामिल इन दो पंक्तियों का अर्थ हे

“मार्वंडे बलिर व्यास अश्वत्थामा जी हनुमानश चा विभिषन कृपाचार्य चा परशुरामम अष्टैत चिरंजीवनम”
                ‘ऋषिक मर्कंदे, अश्वतामा, राजा महाबली, व्यास, हनुमान, विभिषण, कृपाचार्य और परशुराम आठ मौत के झूठे या अविनाशी व्यक्ति हैं।’

अस्थुथामा बालव्यास हनुमान विभीषण कृपाचारी भगवन परशुराम ये सात महामानव चिरंजीवी हे (यानिकि कभी न मरने वाले ) इंसान हे। आदि काल से ही देवता हो या मनुष्य इस लिए तप करते थे की उन्हें अमर होने का वरदान मिल जाए।

लेकिन ऐसा वरदान किसी को नहीं मिला जो की प्रकृति का नियम हे जो आया हे वो जायगा ही फिर भी सात महा मानव अजर और अमर हे वो कोई देव या असुर नहीं बल्कि इंसान हे।

ये सात लोग अपने जन्म कल से लेकर आज तक हर युग और हर काल से लेकर मौजूद रहे हे।

तो आइए दोस्तों हम आपको परिचित कराते हे ऐसे महान इतिहास पुरषो से जिन्होंने किसी ने म्रत्यु पर विजय हासिल की तो किसी को श्राप मिला पृथ्वी के अन्नत तक मुक्त नहीं होने का वरदान।

 

1)अस्थुथामा

Hanuman Of Kind these 7 mysterious great men-wikifeed

द्रोणाचार्य के पुत्र अस्थुथामा को अमृत प्राप्त हे लेकिन ये कोई वरदान नहीं श्राप हे अस्थुथामा कुरुछेत्र में युद्ध लड़ने वाले एक मात्र जीवित योद्धा हे। द्रुपति के पांच निर्दोष पुत्र की हत्या करने पर श्री कृषण ने अस्थुथामा को पाप मुक्ति के लिए श्राप दिया की उसे सृस्टि के अंत तक ऐसी ही चिरंजीवी रहकर पृथ्वी पर भटकना पड़ेगा न कोई उसे बात कर सकेगा और न कोई उसे चाएगा अपने पापो और घावों के साथ ऐसे ही तड़पना होगा समय पर ऐसी ऐसी खबरे अति हे की अस्थुथामा को देखा भी गया हे।

 

2)महाबली का राज

महाबली का राज तीनो लोको में पहला था विष्णु ने जब अपने 52 अवतार में तेन कदम रखने को जगह मांगी तो उन्हें धरती और पाताल के बाद खुद का सवय शरीर आगे कर दिया इस दान विकता और उत्शा को देखकर भगवन विष्णु ने उन्हें चिरंजीवी रहने का वरदान दे दिया।

 

3)राम भक्त हनुमान

Hanuman Of Kind these 7 mysterious great men-wikifeed

रुद्रा अवतार और राम भक्त हनुमान के बारे में भी कहा जाता हे की वो चिरंजीवी हे रामायण के समय में उन्होंने श्री राम का साथ दिया और वही महाभारत काल में अर्जुन की सकती बढ़ाने की रथ की सीखा पर मौजूद रहे कहा जाता हे की श्री हनुमान को चरणजीवी रहने का वरदान सीता माता ने दिया।

 

4)परसुराम

Hanuman Of Kind these 7 mysterious great men-wikifeed

परसुराम भी चिरंजीवी हे भगवान परसुराम का जीकर रामायण में सीता शुवेम्बर के दौरान आता हे वही परशुराम की उपस्थति महाभारत में भी हे महाभारत में परशुराम को कर्ण और भिष्वम का गुरु बताया गया हे कल की पुराण के अनुसार परशुराम ही कल की अवतार के गुरु होंगे।

 

5)कृपाचार्य

Like Lord Hanuman, these 7 mysterious Maha Purshah, who had received the blessing and curse of being azar Amar and Chiranjeevi.

कृपाचार्य के बारे में अलग अलग लोगो के अलग अलग मृत हे कुछ उन्हें चिरंजीवी मानते हे और कुछ नहीं कृपाचार्य कौरवो और पाण्डो दोनों के गुरु थे महाभारत युद्ध में वो राजधर्म निभाने के लिए वो कौरवो की तरफ से शामिल हुवे।

 

6)वियाश मुनि

Hanuman Of Kind these 7 mysterious great men-wikifeed

वियाश मुनि ने महाभारत की रचना की और वो इस ग्रन्थ के एक पात्र भी थे महाऋषि वियाश का वर्णन रामायण के अलावा सत्युग में भी आता हे।

 

7)विभीषण

Hanuman Of Kind these 7 mysterious great men-wikifeed

रामण के भाई विभीषण को भी सात चिरंजीवी में से भी एक माना जाता हे राम और रामायण के दौरान विभीषण ने भी राम का साथ दिया वही महाभारत काल में भी राजसुव्य यग के समय विभीषण ने पांडवो का निमंत्रण सुविकर किया और उपहार भेजे।

तो दोस्तों ये थे हिन्दू मानयता के अनुसार वो चिरंजीवी जो अनादि काल से सृष्टि के अनंत तक जीवित रहेंगे इनमे से 6 चिरंजीवी अपनी योग्ताओ और गुणवन्ता के कारण अजर अमर हे और वही अस्थुथामा एक श्राप के कारण अमृत को झेल रहे हे।

 

 

Add Comment

Click here to post a comment