Maha Shivratri 2018 - wikifeed
Information

Maha Shivratri 2018: श‍िव मूल मंत्र , श‍िव पूजन व‍िधि शुभ मुहूर्त , महाशिवरात्रि का महत्व

Maha Shivratri 2018: श‍िव मूल मंत्र , श‍िव पूजन व‍िधि , महाशिवरात्रि का महत्व.

(Maha Shivratri 2018: Shiva Mul Mantra, Shiva Poojan Method Shubha Muhurt, The Importance of Mahashivaratri)

देवों के देव महादेव को प्रसन्न करने के लिए Maha Shivratri 2018 से बेहतर कोई दिन नहीं है. Maha Shivratri 2018 (महाशिवरात्रि) केे दिन अगर सच्चे मन और सही विधि-विधान से शिवजी की पूजा की जाए तो आप पर भोलेनाथ की कृपा बरसती है. भांग, धतूरा और बेलपत्र ऐसी ही चीज़ें हैं जिनसे इस दिन शिवजी की पूजा करने का विधान है. महाशिवरात्रि केेदिन अगर शिवजी प्रसन्न होते हैं तो आपको मनचाहा वरदान देते हैं, लेकिन अगर सही ढंग से इस दिन भगवान शिव का पूजन न हो तो कृपा की जगह उनका कोप बरसता है. शिवपुराण में पूजन विधि के बारे में विस्तृत जानकारी दी गई है कि किस तरह भगवान शिव को प्रसन्न किया जाए और क्या करने से शिवजी आप से नाराज हो सकते हैं.

Maha Shivratri 2018 - wikifeed

महाशिवरात्रि का महत्व: The Importance of Mahashivaratri

महाशिवरात्रि Maha Shivratri 2018 के पर्व का उत्सव एक दिन पहले ही शुरू हो जाता है. महाशिवरात्रि के दिन पूरी रात पूजा और कीर्तन किया जाता है. इतना ही नहीं कई पुराण के अंदर Shivratri (शिवरात्रि) का उल्लेख मिलेगा, विशेषकर स्कंद पुराण, लिंग पुराण और पद्म पुराणों में महाशिवरात्रि का उल्लेख किया गया है. शैव धर्म परंपरा की एक पौराणिक कथा अनुसार, यह वह रात है जब भगवान शिव ने संरक्षण और विनाश के स्वर्गीय नृत्य का सृजन किया था. हालांकि कुछ ग्रंथों में यह दावा किया गया है कि इस दिन भगवान शिव और देवी पार्वती का विवाह हुआ था.

Read More: आज के दिन कुछ महत्वपूर्ण बातें। गलती से भी न करे चन्द्रमा के दर्शन

Maha Shivratri 2018 - wikifeed

हर चंद्र माह के चौदहवें दिन या अमावस्या से एक दिन पहले शिवरात्रि होती है। एक कैलेंडर वर्ष में आने वाली बारह शिवरात्रियों में से फरवरी-मार्च में आने वाली महाशिवरात्रि आध्यात्मिक रूप से सबसे महत्वपूर्ण है। इस रात धरती के उत्तरी गोलार्ध की स्थिति ऐसी होती है कि इंसान के शरीर में ऊर्जा कुदरती रूप से ऊपर की ओर बढ़ती है। इस दिन प्रकृति इंसान को अपने आध्यात्मिक चरम पर पहुंचने के लिए प्रेरित करती है। इसका लाभ उठाने के लिए इस परंपरा में हमने एक खास त्यौहार बनाया जो रात भर चलता है। ऊर्जा के इस प्राकृतिक चढ़ाव में मदद करने के लिए रात भर चलने वाले इस त्यौहार का एक मूलभूत तत्व यह पक्का करना है कि आप रीढ़ को सीधा रखते हुए रात भर जागें।

Read More: आज पद्मा एकादशी : आज के दिन भगवान विष्णु बदल रहे हे करवट जो मांगोगे सो मिलेगा

आध्यात्मिक मार्ग पर चलने वाले लोगों के लिए महाशिवरात्रि का त्यौहार बहुत महत्वपूर्ण है। यह गृहस्थ जीवन बिताने वाले और दुनिया में महत्वाकांक्षा रखने वाले लोगों के लिए भी महत्वपूर्ण है। गृहस्थ जीवन में रहने वाले लोग महाशिवरात्रि को शिव की विवाह वर्षगांठ के रूप में मनाते हैं। सांसारिक महत्वाकांक्षाएं रखने वाले लोग इस दिन को शिव की दुश्मनों पर विजय के रूप में देखते हैं।

श‍िव मूल मंत्र: Shiva Mul Mantra

महा श‍िवरात्र‍ि के मौके पर ॐ नमः शिवाय का जाप जरूर करें। इस मूल मंत्र का जाप इन वजहों से मंगलकारी माना जाता है.

Maha Shivratri 2018 - wikifeed

दरअसल, ॐ नमः शिवाय को भगवान शंकर का मूल मंत्र माना जाता है जिसका उच्चारण आसान बेहद आसान है। यह बहुत ही सरल मंत्र है जिसके द्वारा कोई भी भगवान शिव की उपासना कर सकता है। इस मंत्र में भगवान शिव को नमन करते हुए उनसे स्वयं के साथ-साथ जगत के कल्याण की कामना की जाती है। ऐसे में महाश‍िवरात्र‍ि के पर्व पर भगवान शिव की आराधना में इस सरल और फलदायी मंत्र का उच्‍चारण जरूर करना चाहिए।

Read More: Shravana Putrada Ekadashi : Woman This Fast With Blessings Of Child , Know Its 

  • ॐ नमः शिवाय का 108 बार प्रतिदिन उच्चारण और भगवान शंकर की पूजा आपको हर बाधाओं से मुक्ति दिलाता है।
  • धन प्राप्ति के लिए शिवलिंग पर बेल पत्र अर्पित करते हुए ॐ नमः शिवाय मंत्र का जाप करें। ऐसा करने से मनचाहे धन की प्राप्ति होगी।
  • सुबह श्वेत वस्त्र धारण करके शिवलिंग पर महादेवाय नमः मंत्र का जाप करें। इससे भगवान शंकर के साथ देवी लक्ष्मी भी प्रसन्न होती है
  • शिवलिंग पर दूध, गंगाजल, दुर्वा और बेलपत्र चढ़ाकर शिव मंत्र ॐ नमः शिवाय का जाप करने से आयु में वृद्धि होती है।
  • भगवान शिव की पूजा करते समय ऊं नमो भगवते रुद्राय मंत्र का जाप करने से भक्त को मोक्ष की प्राप्ति होती है।
  • सोमवार को शिवलिंग पर जल चढ़ाए और ॐ नमः शिवाय मंत्र का 108 बार जाप करें। इससे आपसे सभी दुख दूर होते हैं।

श‍िव पूजन व‍िधि: Shiva Poojan Method Shubha Muhurt

महाशिवरात्रि का शुभ मुहूर्त 13 फरवरी की आधी रात से शुरु होकर 14 फरवरी तक रहेगा। इस दिन भगवान शिव का पूजन सुबह 7 बजकर 30 मिनट से शुरु होकर दोपहर 3 बजकर 20 मिनट तक किया जाएगा।

Add Comment

Click here to post a comment




Subscribe for wikifeed