Uncategorized

Navratri 2019: आज के दिन देवी चंद्रघंटा की पूजा की जाती है. जानिए मां चंद्रघंटा के बारे में कुछ खास बातें

Want create site? Find Free WordPress Themes and plugins.

माता की पूजा के अलावा चैत्र नवरात्रि (Chaitra Navratri) के नौवें दिन को राम जी के जन्मदिन के तौर पर मनाया जाता है. इसे राम नवमी (Ram Navami) भी बोलते हैं. चैत्र नवरात्रि को राम नवरात्रि के नाम से भी जाना जाता है.

चैत्र नवरात्रि (Chaitra Navratri) के तीसरे दिन मां चंद्रघंटा की पूजा chandraghanta maa puja vidhi होती है. इस बार नवरात्रि 6 अप्रैल से 14 अप्रैल तक चलेंगे, मां चंद्रघंटा 8 अप्रैल को पूजी जाएंगी. इन पूरे नौ दिनों में हर दिन मां दुर्गा के अलग-अलग रूपों की पूजा होगी. मां का यह रूप बेहद ही सुंदर, मोहक और अलौकिक है। चंद्र के समान सुंदर मां के इस रूप से दिव्य सुगंधियों और दिव्य ध्वनियों का आभास होता है। यह हिंदुओं का प्रमुख त्योहार है. माता की पूजा के अलावा चैत्र नवरात्रि के नौवें दिन को राम जी के जन्मदिन के तौर पर मनाया जाता है. इसे राम नवमी भी बोलते हैं. चैत्र नवरात्रि को राम नवरात्रि के नाम से भी जाना जाता है.

Chandraghanta Maa puja vidhi - wikifeed

आज मां दुर्गा के तीसरे रूप यानि देवी चंद्रघंटा का दिन है और इस दिन उनकी पूजा और अर्चना chandraghanta maa puja vidhi अलग तरीके से की जाती है। कई भक्तजनों को सही विधि पता नहीं है और इसे बारे में भी नहीं पता कि देवी चंद्रघंटा को खुश करने के लिए कौन-सा भोग लगाया जाए। तो आज हम आपको बता रहे हैं मां चंद्रघंटा की पूजन विधि और उनका प्रिय भोग।

नवरात्र में मां देवी के नौ रुपों को लगाएं ये विशेष भोग…

मां चंद्रघंटा का यह स्वरूप परम शांतिदायक और कल्याणकारी है। इनके मस्तक में घंटे का आकार का अर्धचंद्र है इसलिए इन्हें चंद्रघंटा देवी कहा जाता है। इनके शरीर का रंग सोने के समान चमकीला है। इनके दस हाथ हैं। इनके दसों हाथों में खड्ग आदि शस्त्र तथा बाण आदि अस्त्र विभूषित हैं। इनका वाहन सिंह है, यह वीरता और शक्ति का प्रतिक हैं। मां चंद्रघंटा की कृपा से अलौकिक वस्तुओं के दर्शन होते हैं, दिव्य सुगंधियों का अनुभव होता है तथा विविध प्रकार की दिव्य ध्वनियां सुनाई देती हैं। ये क्षण साधक के लिए अत्यंत सावधान रहने के होते हैं।

Chaitra Navratri 2019: चैत्र नवरात्रि के पहले दिन यानि आज के दिन घर में कलश स्‍थापना होता है

इस देवी की आराधना से साधक में वीरता और निर्भयता के साथ ही सौम्यता और विन्रमता का विकास होता है। इसलिए हमें चाहिए कि मन, वचन और कर्म के साथ ही काया को विधि-विधान के अनुसार परिशुद्ध-पवित्र करके चंद्रघंटा के शरणागत होकर उनकी उपासना-आराधना करना चाहिए। इससे सारे कष्टों से मुक्त होकर सहज ही परम पद के अधिकारी बन सकते हैं। ये देवी कल्याणकारी है।

यहां जानिए मां चंद्रघंटा के बारे में कुछ खास बातें.

  • मां चंद्रघंटा के माथे पर घंटे के आकार का आधा चांद बना है, इसी वजह से इन्हें चंद्रघंटा कहते हैं.
  • मां चंद्रघंटा का रूप सोने की तरह चमकीला होता है. हाथ दस होते हैं और सभी में शस्त्र और बाण पकड़े हुए दिखती हैं. सिंह इनकी सवारी होता है.
  • मां चंद्रघंटा को सुगंध प्रिय है. इसलिए इनका पूजन करते समय फूल और इत्र चढ़ाएं.
  • मां चंद्रघंटा का मंत्र
  • या देवी सर्वभू‍तेषु माँ चंद्रघंटा रूपेण संस्थिता।
  • नमस्तस्यै नमस्तस्यै नमस्तस्यै नमो नम:।।
  • मान्यता है कि मां चंद्रघंटा की पूजा करने से भक्तों के कष्ट हमेशा के लिए खत्म हो जाते हैं.

पूजन विधि: chandraghanta maa puja vidhi

तीसरे दिन की पूजा का विधान भी लगभग उसी प्रकार है जो दूसरे दिन की पूजा का है. इस दिन भी आप सबसे पहले कलश और उसमें उपस्थित देवी-देवता, तीथरें, योगिनियों, नवग्रहों, दशदिक्पालों, ग्राम एवं नगर देवता की पूजा अराधना करें. फिर माता के परिवार के देवता, गणेश, लक्ष्मी, विजया, कार्तिकेय, देवी सरस्वती, एवं जया नामक योगिनी की पूजा करें फिर देवी चन्द्रघंटा की पूजा अर्चना करें. चन्द्रघंटा की मंत्र – या देवी सर्वभूतेषु मां चंद्रघंटा रूपेण संस्थिता. नमस्तस्यै नमस्तस्यै नमस्तस्यै नमो नम:

Navratri 2019 latest Hindi Bhakti video song full HD

देवी मंत्र:

ॐ देवी चन्द्रघण्टायै नमः॥

देवी प्रार्थना:

पिण्डज प्रवरारूढा चण्डकोपास्त्रकैर्युता।
प्रसादं तनुते मह्यम् चन्द्रघण्टेति विश्रुता॥

बता दें, नवरात्रि के पहले दिन शैलपुत्री, दूसरे दिन ब्रह्मचारिणी, तीसरे दिन चंद्रघंटा, चौथे दिन कूष्माण्डा, पांचवे दिन स्कंदमाता, छठवें दिन कात्यायनी, सातवें दिन कालरात्रि, आठवें दिन महागौरी और नौवें दिन सिद्धिदात्री को पूजा जाता है. इसी के साथ नौवें दिन राम जी की पूजा भी करते हैं.

Navratri 2019 latest Hindi Bhakti video song full HD

Did you find apk for android? You can find new Free Android Games and apps.